रविवार, 13 जनवरी 2013

सर कटा भी है सर झुका भी है....

530803_254391904692461_1641089921_n                  खबर है कि सीमा पर पाकिस्तान फ्लैग वार्ता करने को तैयार है... तैयार है मतलब? जिसने पड़ोसी और शान्ति के लिए बार बार पहल करने वाले स्वयंभू दुनिया के सबसे बड़े लोकतान्त्रिक राष्ट्र की सीमा का उयलंघन किया हो, हर तरह से बड़े और शक्तिशाली देश के एक सैनिक का सर काट लिया हो, सीमा पर युद्ध जैसे हालात पैदा किए हों, फ्लैग वार्ता भी करने को वही तैयार होता हो। भारत जैसा सक्षम देश उस देश को फ्लैग वार्ता के लिए पुकारता रहे जिसका खर्च ही विकसित देशों की चापलूसी से चलता हो।
                  सीमा पर सीज़ फायर होने के बावजूद गोलीबारी होना कोई अतिशयोक्ति नहीं है। विशेष रूप से उन दो देशों की सीमाओं पर जो आजन्म एक दूसरे के विरोधी हों गोली बारी की घटना कोई आश्चर्य की बात नहीं है। आश्चर्य की बात यह भी नहीं कि एक दूसरे के जवानों को लक्ष्य कर के चलाई गयी गोली किसी सैनिक को लगे और वो शहीद हो जाए। ये अक्सर होता है और सैनिक की सेवा मे देश की सीमाओं की रक्षा करते हुए वीरगति को प्राप्त करता है जो बहुत असामान्य घटना नहीं है। वास्तव मे एक देश जो हर तरह से सक्षम है, ताकतवर है और सम्प्रभु है उसकी सीमा का उलंघन करना और उसके एक सैनिक का सिर काट ले जाना पूरी तरह से उस राष्ट्र की अस्मिता पर हमला है, सीधे सीधे अपमान है... और उससे भी चिंताजनक बात यह.... कि भारत जैसे राष्ट्र के शीर्ष नेतृत्व की आँखों मे पानी की एक लकीर नज़र नहीं आती... निंदा प्रस्तावों और कड़े संदेशों की वही रटी रटाई सरकारी खानापूर्ति  देख कर आत्मा विहीन विशाल शरीर होने जैसा  भ्रम होता है।
                मनुष्य के विकास के साथ ही लड़ाइयाँ अस्तित्व मे हैं... पर सैन्य परम्परा की अपने कुछ अलिखित नियम भी रहे हैं...1992 मे रिटायर हो चुके और कारगिल को छोड़ कर भारत के साथ हुई सभी लड़ाइयों मे हिस्सा ले चुके ब्रिगेडियर राज बहादुर शर्मा बताते हैं जिस समय शान्ति वाहिनी सेना बंगलादेश मे पाकिस्तानी सेना को खदेड़ रही थी अपने सीनियर अधिकारी के साथ वो भी मोर्चे पर थे। पाकिस्तानी सेना किसी विदेशी सहायता की आशा मे समुद्र की ओर भाग रही थी। भारत की सेना की गति रोकने के लिए जगह जगह कुछ पाकिस्तानी टुकड़ियाँ सड़कें रोक कर खड़ी थीं। थ्री नॉट थ्री का ज़माना था, एक स्थान पर प्रतिरोध हटाने के लिए सैनिकों मे आमने सामने की संगीन वाली लड़ाई छिड़ गयी... उन्होने अपने अफसर के साथ देखा... कि सामने थोड़ी दूर पर ही एक पाकिस्तानी सैनिक ने एक भारतीय सैनिक के दोनों हाथ काट दिए थे... यह देख कर आफ़िसर का खून खौल उठा और इसका बदला लेने के लिए उन्होने बाकी टुकड़ियों को छोड़ कर तीन तोपों का मुंह केवल उस टुकड़ी की तरफ खुलवा दिया। उसमे बहुत से पाकिस्तानी सैनिक ढेर हुए और बहुत से पकड़े भी गए... लेकिन ऐसा नहीं हुआ, कि किसी सैनिक का हाथ काट कर या इस तरह की किसी हरकत से उनका अपमान किया जाता।
                   आज शहीद हेमराज के घरवालों को फख्र है कि बेटा सीमा पर शहीद हो गया... लेकिन उनकी मांग है मेरे बेटे का सर ले आओ... सेना मे सैकड़ों जवान कई दिन से खाना नहीं खा रहे हैं... उन्हें यह अपमान लगता है... अपनी आन पर हमला लगता है ऐसे मे देश का शीर्ष नेतृत्व खानापूर्ति करते रहने के अपने पुराने ढर्रे पर कायम है जो किसी भी तरह उचित नहीं है । सीने पर गोली खा कर शहीद हो जाना ज़रूर किसी सैनिक के लिए गर्व हो सकता है, यह एक सैनिक के लिए अप्रत्याशित भी नहीं। लेकिन इस तरह आतंकियों की तरह की धृष्टता भारत की अस्मिता पर सीधा सीधा प्रहार है और इसे बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए। इस कृत्य का जवाब मजबूती से सुनिश्चित किया जाना चाहिए... और किया ही जाना चाहिए।