बुधवार, 8 सितंबर 2010

जो हल निकाला तो सिफर निकले


[Edit]
clip_image001

रात कब बीते कब सहर निकले

इसी सवाल में उमर निकले


तमाम उम्र धडकनों का हिसाब

जो हल निकाला तो सिफर निकले



बद्दुआ दुश्मनों को दूँ जब भी

रब करे सारी बेअसर निकले



हर किसी को रही अपनी ही तलाश

जहाँ गए जिधर जिधर निकले



हमीं काज़ी थे और गवाही भी

फिर भी इल्ज़ाम मेरे सर निकले



किसी कमज़र्फ की दौलत शोहरत

यूँ लगे चींटियों को पर निकले



उजले कपड़ों की जिल्द में अक्सर

अदब-ओ-तहजीब मुख्तसर निकले


….आपका पद्म ..06/09/2010